Fri. Jun 9th, 2023

नई दिल्ली :- देश की राजधानी दिल्ली में राज्य सरकार ने पटाखों को लेकर दिवाली से पहले अलर्ट जारी कर, दिल्ली के प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए प्रतिबंध लगाया था । लेकिन इसके बावजूद भी रात भर आतिशबाजी हुई, जिसकी वजह से प्रदूषण खतरे के निशान से ऊपर हो गया । सफर- इंडिया एयर क्वालिटी सर्विस की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में AQI 323 तक पहुंच गया है, इसे ‘बहुत खराब’ श्रेणी में माना जाता है । वहीं नोएडा में AQI 342 दर्ज की गई ।

दिल्ली सरकार ने दिल्ली के प्रदूषण को लेकर दिवाली से पहले जो पिछले 4 सालों से नियम चला आ रहा है ,दिल्ली में इस बार भी पटाखे जलाने और बेचने पर बैन लगाया गया था, जो कि 1 जनवरी 2023 तक लागू रहेगा । वहीं, दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी थी कि, दिल्ली में पटाखों की बिक्री और उपयोग पर प्रतिबंध होगा । वहीं, दिल्ली में पटाखे फोड़ने पर 200 रुपए के जुर्माने के साथ 6 महीने की जेल होगी । और पटाखे स्टोरेज और बिक्री करने पर 5000 का जुर्माना, 3 साल की जेल की सज़ा होगी ।

दिल्ली सरकार के इस फैसले को लेकर बीजेपी सांसद मनोज तिवारी समेत पटाखा विक्रेताओं ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी । लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने पटाखों के प्रतिबंध को हटाने के लिए साफ इनकार कर दिया था । कोर्ट ने कहा कि हम पटाखों की अनुमति कैसे दे दें? दिल्ली के प्रदूषण को देखा है ? और कहा कि लोगों को साफ हवा में सांस लेने दें । और आप अपने पैसे मिठाई पर खर्च करें ।

गौरतलब है कि इस वक्त पड़ोसी राज्यों के द्वारा पराली जलाने पर प्रदूषण का स्तर काफी ज़्यादा बढ़ जाता है । इसी के साथ साथ दिवाली के समय पटाखों के कारण जबरदस्त प्रदूषण फैल जाता है, जिसके कारण सांस की तकलीफ, अस्थमा के मरीजों की संख्या, आंखों में जलन जैसी समस्याएं हो जाती हैं । राजधानी का मौसम भी बेहद ज़हरीला हो जाता है । दिल्ली का AQI काफी गंभीर स्थिति में पहुंच जाता है । घरों से बाहर निकलने पर मास पहनकर निकलने की सलाह दी जाती है ।

इन्हीं कारणों से दिल्ली सरकार ने अलर्ट जारी करते हुए प्रतिबंध लगाए । हालांकि, प्रतिबंधों के बावजूद भी राजधानी के कई इलाकों में आतिशबाजी हुई । जिसकी वजह से दिल्ली में प्रदूषण का स्तर बढ़ा । लेकिन अलर्ट जारी करने के बावजूद भी आतिशबाजी कैसे हुई ? क्या प्रशासन ने इसको लेकर सख्त कदम नहीं उठाए ? या वो नाकामयाब रही । इन सब सवालों में दिल्ली सरकार अब घेरे में है । पिछले साल भी दिल्ली में प्रदूषण को नियंत्रित न कर पाने पर सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाई थी ।

By :- NAUMAN AHMAD KHAN*
*नोमान अहमद खान

loading...

By Khabar Desk

Khabar Adda News Desk

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *